Hello Friends! How Are You ?. I hope everything is better. Friends Today we want to discuss about the Computer File System Like FAT32 and NTFS file System.

It is very important to know that What is FAT32 and NTFS File System & Difference between FAT32 and NTFS File System. Everything is in this post so read all Content and tells that how useful this post is?

fat32-and-ntfs-file-system-in-hindi

File System:-

File System एक ऐसा structure हैं जिसकी help से computer hard disk पर data organise करता हैं । Operating System को किसी disk पर data को store एवम manage करने के लिये एक standard को follow करना होता हैं

जिससे की disk पर सभी files को आसानी से manage किया जा सके । यह standard disk पर partition बनाने के लिये अवम file को system पर organise करने का एक method हैं । Computer की hard disk मे जो data store होता है उसका file system अलग होता है । जैसे की SD Card, Pendrive में जो data save होता है उसका file system अलग होता है ।

प्रत्येक OS में आन्तरिक रुप से data को organize करने का अपना तरिका है । कुछ popular file system इस प्रकार है । जैसे:- FAT,NTFS,EXT etc.

FAT32 with VFAT- support D65 to window different versions.

  1. FAT(FAT12, FAT16, FAT16B, FAT32, 
  2. NTFS- Support windows NT to windows10
  3. EXT(ext2, ext3, ext4)- Linux different version- SUSE, Ubuntu,Fedora etc
  4. UFS- Debian, GNU
  5. XFS- RHEL7, Cent OS7
  6. APFS(Mac OS) IOS10.3

FAT32(File Allocation System)-

FAT32 FAT file system का most common version है । जिसमे data 32 bits के chunk में store होता है । FAT 1977 में introduce हुआ था जिसका Full-Form file allocation table है । इसका प्रयोग OS द्वारा file को disk पर locate करने के लिये प्रयोग किया जाता है । यह file system बहुत ही Popular file system होता है क्योकि यह लगभग सभी OS System को support करता है । इस file system का प्रयोग smartphones, digital cameras, gaming console, Pendrive आदि में करते है।

FAT32 FAT System का सबसे latest version है जोकि 1996 में introduce हुआ था । यह maximum 2TB के partition को support करता है । FAT32 की सबसे big file 4GB की हो सकता है ।

FAT Layout:-

FAT file system logical disk के space को 4 parts में divide करता है । जोकि boot sector, FAT Area, Root Directory Area और File Area होते है ।

Boot Sector:-

इसे Reserved sector भी कहा जाता है । और यह Logical disk के space का पहला part होता है । यह computer को start करने के लिये OS को आवश्यक boot loader code, Master Boot Regard(MBR) की partition table जो कि drives कैसे Organise करना है को बताता है । और BIOS parameter block जो कि data storage volume के physical outline को describe करता है को शामिल करता है ।

FAT Area:-

यह section file allocation table की दो copy को रखता है ।

Root Directory Area:-

यह Area Directory Table होति है जो कि directories और files के बारे में Information contain करता है । यह केवल FAT12 और FAT16 साथ कार्य करता है । यह fixed maximum size और creation time पर configure होता है । FAT32 Root Directory को Data Area मे store करता है । इसलिए यह आवश्यक्ता पडने पर expand भी हो सकता है।

File Area:-

यहा directory Data और उसकी existing file store होति है । यह Disk पर most of the partition को occupy करता है ।

NTFS(New Technology File System):-

NTFS सबसे पहले Windows NT 3.1 के साथ Introduce हुआ था । और यह पुरी तरीके से Re-written File System था । यह Read, Write, Search जैसे File operations को जल्दी करने के लिये design किया गया है ।

साथ ही advance operation जैसे File System Recovery को करने के लिये बनाया गया है । NTFS File System के साथ formatting volume करने से कई system files और Master File Table का creation होता है

जिसमे NTFS volume पर सभी files और folders के बारे में Information होति है । NTFS volume पर Information का first part Partition Boot Sector दुसरा part Master File Table और तीसरा Part System Files Area होती है ।

1. Partition Boot Sector:-

NTFS volume पर Information का first part partition boot sector होता है । जो sector 0 से शुरु होता है और 16 sector तक long हो सकता है ।

2. Master File table:-

जब कोई File NTFS का प्रयोग करके create करके की जाति है । तो file का record एक special file में record create होते है । इस record का प्रयोग scattered cluster का प्रयोग करने के लिये किया जाता है । NTFS entire file को रखने के लिये continues storage space खोजने की कोशिश करता है ।

3. System File:-

यह Area System File को रखने के लिये use किया जाता है ।

4. File Area:-

यहा Area File Directory और उसमे existing file को store करने के किये होता है ।

S.No. FAT32
1. Maximum File 4GB (minus 2 Bytes) – FAT32 मे File का Size अधिक से अधिक 4GB माइनस 2 Bytes का हो सकता है या Approximately 4GB size की File आप Create कर सकतें हैं |
2. Less Fault Tolerance
3. Maintains 2 Copies of File Allocation Table – इसका मतलब है यह OS की File Allocation table की दो Copies को maintain करता है और यदि किसी कारण से जैसे की Power Failure के case मे FAT Corrupt हो जाये तो Backup से इसे Restore किया जा सकता है |
4. Less Secure – यह कम Secure होता है |
5. Depend on Share Permissions – इसमें Security केवल Share Permission से मिलती है |
6. Good in the Network – इसमें Network से तो आपका system Secure होता है यानी की आपके System के ऊपर रखा हुआ data Permissions के हिसाब से ही access किया जा सकता है लेकिन Locally ऐसा नहीं है |
7. Locally Vulnerable – यदि कोई व्यक्ति आपके system को access कर रहा होगा वो इस पर रखी हुई सभी Files और Folders को किसी भी तरीके से इस्तेमाल कर सकता है |
8. No Compression feature – इसमें Compression का Feature available नहीं है मतलब आप इसमें अपने Data को Compress करके Space को Save नहीं कर सकते |
9. Can be Converted to NTFS – इसे आप NTFS मे Convert कर सकते हैं |
10. File Encryption option is absent.

S.No. NTFS
1. Maximum File Size 16 TB (minus 64 KB)NTFS file system मे आप 16 TB minus 64 KB Size की File को Create कर सकतें हैं अर्थात NTFS कि max size लगभग 16TB हि होती है।
2. More Fault Tolerance.
3. Maintains a log of Disk Changes – ये Disk मे होने वाले Changes के log को maintain करता है |
4. More Secured – NTFS बहुत Secure होता है |
5. Allows you to set permission on local files and folders – इसमें File Permissions की मदद से आप ये Define कर सकतें हैं की कौन से Users Local रखी हुई Files और Folders को किस हद तक access कर सकते हैं | NTFS Locally और Network दोनों पे security Provide कराता है |
6. Secure Network.
7. Locally Secured.
8. Lets you Compress Files and Folders – इसमे आपको Compression का Feature देखने को मिलता है आप इसमें अपने Data को Compress करके Space को Save कर सकते |
9. Cannot be Converted to FAT32 – इसे आप FAT32 मे Convert नहीं कर सकते |
10. File Encryption option is present.

Read these contents –

  1. What is File System ?
  2. Directory Structure of Laravel in Hindi ?
  3. What is Network Security in Hindi ?
  4. What is Applet in Java in Hindi  ?
  5. What is OOPs Concept In Hindi ?
  6. Laravel Installation in Windows ?

 

Final Word –

तो दोस्तों आज मैंने आप सभी को Computer के File System और   FAT32 and NTFS file system in hindi  के बारे में बताया हूँ| अगर आपको कोई भी Doubte हो तो Comment करके जरुर पूछे ।

तो दोस्तों मै आशा करता हूँ की आपको ये Post पसंद आई होगी। अगर आप को ये Post थोड़ी सी भी Useful/Helpful लगी हो Please Follow and Comment जरुर करे और इसे अपने दोस्तों के साथ Share करे! धन्यबाद|

2 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here